अमित शाह ने अपने संसदीय क्षेत्र को 10 करोड़ रुपए की स्वास्थ्य सुविधाओं की सौगात दी

अहमदाबाद | मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने कोरोना के इस संकट काल में गुजरात की जनता-जनार्दन की स्वास्थ्य सेवा व कल्याण के लिए 10 करोड़ रुपए की विभिन्न सुविधाओं एवं उपकरणों की सहायता देने के लिए केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह का पूरे गुजरात की ओर से आभार व्यक्त किया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने संकट के समय गुजरात की मदद की है जिसे गुजराती कभी नहीं भूलेंगे। कोरोना की इस दूसरी लहर के बीच अमित शाह द्वारा की गई यह सहायता गुजरात की जनता और राज्य सरकार के लिए वरदान साबित होगी। रूपाणी ने कहा कि महामारी की इस विकट परिस्थिति में केंद्रीय गृह मंत्री द्वारा उपलब्ध कराई गई स्वास्थ्य सुविधाएं नागरिकों के स्वास्थ्य कल्याण में काफी मददगार बनेगी। अमित शाह द्वारा अहमदाबाद में जीएमडीसी मैदान पर नवनिर्मित धन्वंतरि कोविड हॉस्पिटल और गांधीनगर के कोलवड़ा में ऑक्सीजन प्लांट के लोकार्पण के बाद उनके संसदीय क्षेत्र में कोरोना संक्रमित व्यक्तियों की उपचार सेवा के लिए 10 करोड़ रुपए की लागत से उपलब्ध कराई गई इस साधन-सहायता को शनिवार को सोला सिविल हॉस्पिटल से जिला प्रशासन के तंत्र वाहकों ने संबंधित स्थलों के लिए रवाना किया। जिला कलक्टर संदीप सागले और जिला विकास अधिकारी अरुण महेश बाबू की उपस्थिति में अहमदाबाद सोला सिविल हॉस्पिटल में आईसीयू ऑन व्हील्स, मोबाइल लेबोरेटरी और एंबुलेंस का लोकार्पण किया गया। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह द्वारा प्रदान की गई इन स्वास्थ्य सुविधाओं से 8 लाख से अधिक ग्रामीण लोग लाभान्वित होंगे। उप मुख्यमंत्री नितिनभाई पटेल ने कहा कि अमित शाह ने कोरोना काल में अपने संसदीय क्षेत्र के लोगों की स्वास्थ्य सुविधाओं की चिंता कर आदर्श सांसद की मिसाल पेश की है। उन्होंने कहा कि इस पहल से सरकारी हॉस्पिटलों की स्वास्थ्य सुविधाएं ज्यादा सुदृढ़ बनेंगी। कोविड महामारी के समय जनता को आवश्यक स्वास्थ्य सुविधाएं मुहैया कराने के उद्देश्य से केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने गांधीनगर लोकसभा संसदीय क्षेत्र में 10 करोड़ रुपए से अधिक रकम की व्यवस्था की है जिससे 100 बाइपैप (बाइलेवल पॉजिटिव एयरवे प्रेशर) मशीन और 25 वेंटिलेटर की सुविधा उपलब्ध होगी। 100 बाइपैप मशीनों में से 50 सोला सिविल और 50 गांधीनगर सिविल हॉस्पिटल में कार्यरत होंगी। केंद्रीय मंत्री की इस व्यवस्था के चलते तात्कालिक स्तर पर 6 एंबुलेंस, 2 आईसीयू ऑन व्हील्स और 2 मोबाइल लेबोरेटरी की सुविधा जनता को मिलेगी। इस व्यवस्था से अहमदाबाद जिले के 160 गांव और गांधीनगर जिले के 100 गांव तथा 4 नगरपालिका क्षेत्र की जनता को राहत मिलेगी। अमित शाह की इस पहल से गांधीनगर क्षेत्र की जनता को 1 एंबुलेंस वैन, 1 मोबाइल टेस्टिंग वैन और 1 आईसीयू ऑन व्हील्स की सुविधा का लाभ मिलेगा। वहीं, अहमदाबाद क्षेत्र की जनता को 6 एंबुलेंस वैन का लाभ मिलेगा। इसके अलावा, अहमदाबाद सोला सिविल हॉस्पिटल में आंख के रोगों के निदान के लिए फेको मशीन और साणंद एवं बावला क्षेत्र में 1-1 मोबाइल टेस्टिंग लेबोरेटरी वैन आवंटित की गई है। कोविड की परिस्थिति को ध्यान में रखते हुए जनता को तत्काल हॉस्पिटल तक पहुंचने में सुगमता रहे उसके लिए बावला, साणंद, नानोदरा, विरोचननगर, सनाथल, सरढव और सोला सिविल हॉस्पिटल को एंबुलेंस का आवंटन किया गया है। इसके अतिरिक्त, गांधीनगर में आईसीयू ऑन व्हील्स की सुविधा मुहैया कराई जाएगी। अहमदाबाद जिले के साणंद और बावला क्षेत्र में 2 डिजिटल एक्स-रे मशीन, 2 कलर सोनोग्राफी मशीन, 6 ऑक्सीजन कॉन्सेनट्रेटर्स मशीन, 12 बायनोक्यूलर माइक्रोस्कोप, 2 डिजिटल एक्स-रे मशीन और फिजियोथेरेपी की मशीनें आवंटित की गई हैं। गांधीनगर क्षेत्र में 1 सोनाग्राफी मशीन, 1 फुली ऑटोमैटिक केमेस्ट्री एनेलाइजर, 1 लेप्रोस्कोपिक मशीन यूनिट, 1 पोर्टेबल ईसीजी मशीन और 1 डेंटल डिजिटल एक्स-रे मशीन का आवंटन किया गया है। केंद्रीय मंत्री द्वारा प्रदान की गई स्वास्थ्य सुविधाओं को नगरपालिकावार देखें तो बावला, साणंद, नानोदरा, विरोचननगर, सनाथल और सोला सिविल अर्बन हेल्थ सेंटर के लिए एंबुलेंस, साणंद-बावला के लिए मोबाइल लेबोरेटरी वैन, डिजिटल एक्स-रे मशीन, कलर सोनोग्राफी मशीन, बायनोक्यूलर माइक्रोस्कोप और डेंटल डिजिटल ए्क्स-रे मशीन का समावेश होता है। इसके अलावा, सरढव के लिए एंबुलेंस वैन, गांधीनगर के लिए ब्लड सेल मोबाइल वैन और आईसीयू ऑन व्हील्स तथा कालोल-गांधीनगर के लिए बायनोक्यूलर माइक्रोस्कोप, कलोल सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के लिए सोनोग्राफी मशीन थ्री-डी और फोर-डी फुली ऑटोमैटिक केमेस्ट्री एनलाइजर, लेप्रोस्कोपी ऑटोमैटिक केमेस्ट्री और डिजिटल एक्स-रे मशीन आवंटित की गई हैं। इन सारी सुविधाओं के मिलने से राज्य सरकार को कोरोना संक्रमण के नियंत्रण की जंग में नई शक्ति और नई दिशा मिलेगी। इतना ही नहीं, उपचार व्यवस्थाएं भी ज्यादा सुदृढ़ बनने से कोरोनाग्रस्त मरीजों की देखभाल व्यापक स्तर पर की जा सकेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *