Home गुजरात जहरीली गैस लीक होने से 6 लोगों ने गंवाई जान, अस्पताल में...

जहरीली गैस लीक होने से 6 लोगों ने गंवाई जान, अस्पताल में भर्ती 23 में से सात की हालत गंभीर

72
0

सूरत | सचिन जीआईडीसी क्षेत्र में आज सुबह जहरीली गैस के रिसाव से 6 लोगों की मौत हो गई| आंखों में जलन और दम घुटने की वजह से बेहोश हुए 23 लोगों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है| जिसमें 7 लोगों की हालत गंभीर बताई जा रही है| यह घटना उस समय हुई जब सचिन जीआईडीसी क्षेत्र की खाडी में जहरीले कैमिकल का निपटारा किया जा रहा था| पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू की है| जानकारी के मुताबिक गुरुवार की सुबह करीब चार बजे सूरत के सचिन जीआईडीसी स्थित राजकमल चौराहे के निकट विश्वाप्रेम नामक डाइंग मिल के सामने से गुजरती खाडी में एक टैंकर से अत्यंत ज्वलनशील और जहरीला कैमिकल छोड़ा जा रहा था| जिसकी गैस वातावरण में मिलने से मिल में कार्यरत कर्मचारियों में भगदड़ मच गई| आंखों में जल, चक्कर आने और दम घुटने से कर्मचारी मिल के बाहर आ गए| हांलाकि वातावरण में घुल चुकी गैस इतनी तीव्र था कि एक के बाद एक कर्मचारी जमीन पर गिरने लगे| अचानक हुई इस घटना से लोग चीखने-चिल्लाने लगे| घटनास्थल पर एम्ब्युलैंस के पहुंचने से पहले एक के बाद एक 6 कर्मचारियों ने दम तोड़ दिया| जबकि 23 लोगों को एम्ब्युलैंस और पुलिस वैन में अस्पताल पहुंचाया गया| घायलों में 7 को वेन्टीलेटर पर और 4 को ऑक्सीजन पर रखा गया है| इस घटना से सचिन जीआईडीसी ही नहीं पूरे शहर में हाहाकार मच गया| इस घटना में 30 वर्षीय सुलतान, 20 वर्षीय कालीबेन, 30 वर्षीय सुरेश के अलावा 30, 50 और 44 वर्षीय अज्ञात समेत 6 लोगों की मौत हो गई| जबकि 38 वर्षीय उमेश दशरथ प्रसाद, 34 वर्षीय मनोज रामा विश्वकर्मा, 20 वर्षीय छोटेलाल यादव, 35 वर्षीय पुनित सिंग, 34 वर्षीय अशोक तिवारी, 45 वर्षीय गरीबनदास, 45 वर्षीय गजेन्द्रसिंह, 35 वर्षीय रामतीर्थ मिश्रा, 35 वर्षीय राजनाथ यादव, 18 वर्षीय रवि, 40 वर्षीय महावीर, 20 वर्षीय सुनील, 30 वर्षीय अवधेश प्रजापति, 23 वर्षीय रविन्द्र, 30 वर्षीय श्याम भगवत शर्मा, 50 वर्षीय राधेश्याम, 19 वर्षीय राजकुमार और 6 अज्ञात समेत लोग शामिल हैं| घटना के बाद पुलिस प्रशासन के आला अफसरों समेत फायर विभाग, जीपीसीबी और फोरेंसिक की टीम घटनास्थल पर पहुंच गई| फोरेंसिक अधिकारियों की टीम ने टैंकर से जहरीले कैमिकल के सैंपल लेने के साथ ही खाडी में छोड़े गए कैमिकलवाले पानी के सैंपल लेकर जांच के लिए भेज दिए हैं| जीपीसीबी के अधिकारी पराग दवे ने बताया कि छह महीने पहले इसके साथ ही तीन शिकायतें मिली थीं| इससे पहले सचिन और जहांगीरपुरा में शिकायते प्राप्त हुई थीं और उसके आधार कानूनी कार्रवाई भी की गई थी| आज के मामले में एफआईआर दर्ज करवाई गई है|

Previous articleप्रधानमंत्री की सुरक्षा चूक पर पंजाब की कांग्रेस सरकार को देश से माफी मांगनी चाहिये :श्री बजरंग सेना राष्ट्रीय अध्यक्ष हितेश विश्वकर्मा
Next article07-01-2022 Suratbhumi E-paper

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here