Home गुजरात मीडिया ट्रायल में रहनेवाले लोग पहले 28 साल तक शासन करें उसके...

मीडिया ट्रायल में रहनेवाले लोग पहले 28 साल तक शासन करें उसके बाद बात करें

145
0

अहमदाबाद | गुजरात के शिक्षा मंत्री जीतु वाघाणी ने कहा कि शिक्षा के माध्यम द्वारा मीडिया ट्रायल में रहनेवाले लोग पहले 28 वर्ष तक शासन करें और उसके बाद शिक्षा की बात करें| लोकतंत्र में चुनाव के लिए कई मैदान हैं| परंतु हमारे मन तो जनता जनार्दन की सेवा ही मैदान है| जनता जनार्दन ही हमारे मन में भगवान है| इसीलिए जनता का अविरत आशीर्वाद लगातार 28 साल से हमें प्राप्त हो रहा है| बता दें कि दिल्ली के उप मुख्यमंत्री एवं शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया ने गुजरात की शिक्षा नीति पर सवाल उठाते हुए खुली बहस करने की गुजरात के शिक्षा मंत्री जीतु वाघाणी को ट्वीटर के जरिए चुनौती दी थी| गुजरात सरकार के प्रवक्ता मंत्री जीतु वाघाणी ने आम आदमी पार्टी द्वारा शिक्षा के बारे में डिबेट करने की दी गई चुनौती खारिज करते हुए कहा कि तुलना किसी के साथ नहीं हो सकती| विकास के सूचकांक में प्लानिंग कमीशन, नीति आयोग के आधार पर ही कोई रैकिंग मिलता है| गुजरात सभी सेवा क्षेत्रों में देशभर में आज भी अग्रसर है, जिसे देख ऐसे लोगों के पेट में मरोड उठती है| इसीलिए ऐसे आधारहीन आरोप लगाकर गुजरात को बदनाम करने निकले हैं, जिसे राज्य सरकार कभी बर्दाश्त नहीं करेगी| राज्य के प्रवक्ता मंत्री एवं शिक्षा मंत्री जीतु वाघाणी ने कहा कि अन्य कोई भी राज्य की गुजरात के साथ तुलना नहीं की जा सकती| कई लोग सत्ता के मद में और नशे में आकर ‘हम पंजाब जीते, दिल्ली में दो बार जीते’ जैसी बातें करते हैं| इन दोनों राज्यों और उसकी जनता के प्रति सम्मान है, परंतु गुजरात की जनता ने भाजपा की सरकार को लगातार 28 साल तक शासन करने का अधिकार दिया है| केशूभाई पटेल के नेतृत्व से लेकर विजय रूपाणी तक और अब भूपेन्द्र पटेल के नेतृत्व में राज्य की जनता ने भाजपा को मेन्डेट दिया है| इसलिए किसी से तुलना कोई प्रश्न ही नहीं उठता| यह तुलना तभी संभव है जब कोई लगातार 28 वर्ष तक शासन में रह सके| जीतु वाघाणी ने स्पष्ट शब्दों में कहा कि गुजरात कोई ऐसा मैदान नहीं है, जहां कोई भी हीरोगिरी कर सके| केवल मीडिया में बने रहने के लिए मीडिया ट्रायल का हिस्सा बनने के लिए लगातार कुछ लोग ऐसी बातें करते रहते हैं| लेकिन यह गुजरात की धरती है और इस धरती ने समयांतर ऐसे लोगों को सबक सिखाया है| जनता जनार्दन ही सबसे बड़ी शक्ती है| उन्होंने मीडिया ट्रायल करनेवालों की आलोचना करते हुए कहा कि गुजरात की जनता 2014 और 2019 में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में सभी 26 सीटें भाजपा को दी थीं| अगर आम आदमी पार्टी का शासन इतना ही अच्छा है तो वर्ष 2014 और 2019 के लोकसभा चुनाव में उसका हाल क्या हुआ था? इसका जवाब उनसे मांगा जाना चाहिए| शिक्षा मंत्री ने कहा कि लोकतंत्र है इसलिए कोई भी आ सकता है, परंतु पुराना इतिहास खंगाल लेना कि पहले हुए विधानसभा, लोकसभा, कॉर्पोरेशन, जिला और तहसील पंचायतों के चुनावों में जनता ने भाजपा को स्वीकार किया है| हमारे लिए पहले भगवान सोमनाथ और दूसरे भगवान जनता जनार्दन है| उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार ने जो किया है वह जनता जानती है और इसीलिए लोकसभा की सभी सीटें उसे दी हैं| हमने इस जिम्मेदारी को स्वीकार किया है| लगातार 6 बार हमे गुजरात की जनता ने स्वीकार किया है| राज्य में सरकारी 33 हजार प्राथमिक और 7 हजार माध्यमिक समेत 40000 स्कूलें हैं| दिल्ली में 1054 स्कूलों में से केवल 54 स्कूलें स्मार्ट स्कूल हैं, जबकि गुजरात में 10 हजार स्कूलें स्मार्ट स्कूल हैं| उन्होंने कहा कि वर्ष 2030 तक 154 स्कूलों को स्मार्ट बनाने का कुछ लोगों ने दावा किया है| जबकि हमारा आगामी दिनों में 15 हजार प्राथमिक स्कूलों समेत कुल 20 हजार स्कूलों को स्मार्ट स्कूल बनाने का आयोजन है| गुजरात में 70 लाख विद्यार्थी हैं, जबकि कुछ राज्यों में 15 लाख विद्यार्थी हैं| नतीजतन यह तुलना संभव है ही नहीं| किसी के साथ तुलना कर नहीं बल्कि सेवा कर जनता के हृदय में बसा जा सकता है|

Previous articleKoningskroon kroon casino winner Bank Bonussen
Next article25-03-2022 Suratbhumi E-paper

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here