Home गुजरात स्वामी विवेकानंद के जीवन आदर्श युवाशक्ति के समग्र जीवन काल केप्रेरणास्रोत बन...

स्वामी विवेकानंद के जीवन आदर्श युवाशक्ति के समग्र जीवन काल केप्रेरणास्रोत बन सकते हैं : मुख्यमंत्री

38
0

गांधीनगर | मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल ने युवा शक्ति का आह्वान किया है कि वह समाज के छोटे से छोटे तथा अंतिम छोर के मानव तक विभिन्न कल्याणकारी योजनाओं का लाभ पहुँचा कर विकसित, उन्नत एवं आत्मनिर्भर भारत के संकल्प को साकार करे। पटेल ने मंगलवार को गांधीनगर में स्वामी विवेकानंद गुजरात राज्य युवा मंडल अंचल प्रभारियों तथा ज़िला एवं महानगर संयोजकों के प्रशिक्षण वर्ग का शुभारंभ कराते हुए यह आह्वान किया। उन्होंने स्पष्ट रूप से कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की विज़नरी लीडरशिप (दृष्टिवंत नेतृत्व) में देश में डिजिटल इंडिया, मेक इन इंडिया, स्वच्छ भारत जैसे अनेक नूतन आयाम व्यापक बने हैं। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री ने भारत को विकसित, उन्नत व आत्मनिर्भर बनाने के ध्येय के साथ प्रत्येक योजना में अंतिम छोर के एवं छोटे से छोटे मानव के कल्याण का भाव रखा है। इस संदर्भ में भूपेंद्र पटेल ने कहा कि स्वामी विवेकानंद राज्य युवा मंडल के युवा संयोजक योजनाओं का लाभ आवश्यकतावांछु (ज़रूरतमंद) व्यक्तियों तक यथार्थ रूप में पहुँचा कर सफल बनाने में संवाहक बनें। उन्होंने युवाओं का यह भी आह्वान किया कि वे सरकारी योजनाओं से जुड़ी उचित सूचनाओं तथा जानकारियों तथा योजनाओं के लाभों को लोगों को घर बैठे उपलब्ध कराने के लिए ‘डोर स्टेप डिलीवरी सर्विसेज़ (राज्य सरकार, लोगों के द्वार)’ का दृष्टिकोण साकार करें। उन्होंने कहा कि स्वामी विवेकानंद ने विश्व में भारत के साख, प्रतिष्ठा व गौरव को बढ़ाया है। उनके जीवन आदर्श आज की युवा पीढ़ी के समग्र जीवन काल में मार्गदर्शक तथा प्रेरणास्रोत बन सकते हैं। मुख्यमंत्री ने युवा शक्ति को प्रेरणा देते हुए कहा कि अब समाज समस्त में भी नई ऊर्जा प्रकट हुई है। लोग स्वच्छता, डिजिटल ट्रांज़ेक्शन के प्रति एवं आत्मनिर्रता के लिए अधिक उत्साही व जागृत बने हैं। ऐसी स्थिति में युवा शक्ति को अधिक से अधिक लोगों तक योजनागत जानकारियों तथा लाभों को पहुँचा कर राष्ट्र सेवा का दायित्व निभाना और विकसित-आत्मनिर्भर भारत का प्रधानमंत्री का संकल्प पूरा करने हेतु कर्तव्यरत् होना होगा।
इस प्रशिक्षण वर्ग में मार्गदर्शन देते हुए गृह, राजस्व तथा खेल-कूद, युवा एवं सांस्कृतिक मामलों के राज्य मंत्री हर्ष संघवी ने कहा कि वर्तमान समय में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के दीर्घदृष्टिवंत नेतृत्व में नागरिकों को सरकारी सेवाओं के लाभ पाने के लिए सरकारी कार्यालयों के चक्कर लगाने से मुक्ति मिली है। आज सरकार द्वारा योजनाओं की सहायताएँ सीधे बैंक खाते में जमा कराई जाती हैं; जो स्वतंत्रता प्राप्ति के कई वर्षों बाद सबसे बड़ी उपलब्धि है। संघवी ने कहा कि राज्य सरकार की नागरिकोन्मुखी महत्वपूर्ण योजनाओं का लाभ लोगों तक पहुँचाने का दायित्व सभी आंचलिक तथा ज़िला संयोजकों का है। प्रधानमंत्री जनधन, प्रधानमंत्री जन आरोग्य जैसी महत्वपूर्ण योजनाओं के कारण बड़ी संख्या में परिवारों के स्वास्थ्य ख़र्च की बचत ही है। सरकारी योजनाओं की सटीक सूचनाएँ लोगों तक पहुँचने पर कैसा प्रभाव पड़ता है ? इसका उदाहरण देते हुए उन्होंने कहा कि केवल सूरत में ओलपाड विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र में 1.50 लाख विधवा महिलाओं को विधवा सहायता योजना का लाभ मिला है। उन्होंने कहा कि अब तक ‘ग़रीबी हटाओ’ के नाम पर खोखले वचनों द्वारा राजनीति की जाती थी; जबकि पिछले 20 वर्षों में राज्य सरकार ने निर्धनों को पक्के मकान, राशन, रोज़गार सहायता, सरकारी योजनाओं का प्रत्यक्ष लाभ अंतरण (डाइरेक्ट बेनिफ़िट ट्रांसफ़र-DBT)के माध्यम से योजनागत सहायताएँ पहुँचा कर वास्तविक अर्थ में निर्धनता निर्मूलन (ग़रीबी निर्मूलन) करने में सफलता प्राप्त की है।
इस अवसर पर खेल-कूद, युवा एवं सांस्कृतिक मामलों के विभाग के प्रधान सचिव अश्वनी कुमार, उप सचिव एस. के. हुडा, आयुक्त भट्ट,स्वामी विवेकानंद गुजरात राज्य युवा मंडल के पदाधिकारी,प्रदेश भाजपा युवा मोर्चे के अध्यक्ष प्रशांत कोराट तथा राज्य के ज़िलों-महानगरों स्थित स्वामी विवेकानंद केन्द्रों के युवा संयोजक भी उपस्थित रहे।

Previous articleश्री बी.डी. मेहता महावीर हार्ट इंस्टीट्यूट द्वारा सूरत का पहला हार्ट ट्रांसप्लांट सफलतापूर्वक किया गया
Next article31-08-2022 Suratbhumi E-paper

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here