Home गुजरात सराक का अर्थ है श्रोता

सराक का अर्थ है श्रोता

33
0

सूरत भूमि, सूरत। इ.स. 2000 में कालीकुंड तीर्थद्वारक पूज्य जैनाचार्य राजेंद्रसूरीश्वरीजी महाराज ने कालीकुंड (ढोलका) से लगभग 2000 किलोमीटर दूर समेतशिखरजी महातीर्थ के लिए पदयात्रा या विहार किया। 250 से अधिक भिक्षु, भिक्षुणियाँ और लगभग 1000 श्रोता थे। संघ की समाप्ति के बाद शिखरजी तीर्थ में चातुर्मास किया गया। उसी समय पूज्यश्री को सराक परिवारों के बारे में जानकारी मिली। तब से यह काम आंशिक रूप से शुरू हो गया है।
इ.स. 2009 में इस कार्य में तेजी लाने के लिए पूज्य जैनाचार्य राजपरमसुरीजी महाराज और मुनिश्री राजधर्म विजयजी को उन गांवों में भेजा गया। इन सराक लोगों की गतिविधि को देखकर पता चला कि यह जैन धर्म के रंग से रंगे लोग हैं। केवल महात्मा और मंदिर उससे जुड़े नहीं हैं। इस सराकप्रजा की विशेषता क्या है? पूज्य राजपरमसुरिजी महाराज और पूज्य राजधर्म विजयजी महाराज ने यह बताया कि.. बंगाल, बिहार, झारखंड और उड़ीसा में जनसंख्या सराक है। चूंकि पश्चिम बंगाल में च्वज् का उच्चारण नहीं किया गया था, श्रावक में से च्श्राकज् बन गया और अपभ्रंश से च्सराक ज् बन गया।
जैन धर्म के संस्कारों में डूबे ये लोग मांसाहारी संस्कृति के बीच रहकर भी शुद्ध शाकाहारी भोजन करते हैं। उनकी रगों में प्रेम, प्रसन्नता, सरलता और सहकारिता प्रवाहित होती है। सेवा को परिवार या अपने गांव तक ही सीमित नहीं, बल्कि देश के लिए भी, जिन्होंने अभूतपूर्व योगदान दिया है। रक्षा में तैनात कई युवा भी इसी सराक समुदाय के हैं। ये सराक प्रजा जिनके गोत्र भी आदिदेव, धर्मदेव, अनंतदेव, गौतम, कश्यप आदि तीर्थंकर और गणधर भगवंत के नाम पर हैं। चूंकि ये लोग मूर्तिकला की कला में कुशल थे, इसलिए उन्होंने उस समय कई मंदिरों का निर्माण किया। इन क्षेत्रों में अतीत में जैनियों की संख्या कितनी बड़ी थी, यह वहां मिली प्राचीन मूर्तियों, मूर्तियों और मंदिरों के अवशेषों से निर्धारित होता है। आज भी ऐसे स्थान हैं जहाँ 3.4 फीट की खुदाई की जाए, तो जैन मूर्तियाँ बड़ी संख्या में पाई जाती हैं, जिससे पता चलता है कि यहाँ जैनियों की संख्या अधिक होगी।
हालांकि आज भी इन जैनियों की संख्या लाखों में है। सराक लोगों के आर्थिक, धार्मिक और सर्वांगीण उत्थान के लिए इस वर्ष सूरत में इस मिशन सरक सेमिनार का आयोजन किया गया है। 18-09-2022 रविवार को रामपावन भूमि में किया गया। संगोष्ठी में सूरत स्थित सभी जैनाचार्य भगवंत और साध्वीजी भगवंत शामिल होंगे। इस संगोष्ठी में लगभग 7000 श्रद्धालु शामिल होंगे।

Previous article17-09-2022 Suratbhumi E-paper
Next articleतेरापंथ युवक परिषद सूरत द्वारा 60 रक्तदान शिविरों में 4000 से अधिक रक्त एकत्रित किया गया

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here