Home दिल्ली कोविड टीकाकरण के लिए बेघर लोगों का पंजीकरण नहीं होने की खबरें...

कोविड टीकाकरण के लिए बेघर लोगों का पंजीकरण नहीं होने की खबरें निराधार

116
0

नई दिल्ली। स्वास्थ्य मंत्रालय ने आज उन खबरों को निराधार बताया जिनमें आरोप लगाया गया था कि बेघर लोगों को कोविड टीकाकरण के लिए पंजीकरण से रोक दिया गया है। इन खबरों में कहा गया है कि डिजिटल रूप से पंजीकरण करने की आवश्यकता, अंग्रेजी की जानकारी और इंटरनेट की सुविधा के साथ स्मार्टफोन या कंप्यूटर तक पहुंच कुछ ऐसे कारक हैं जो लोगों को टीकाकरण से वंचित करते हैं।
मंत्रालय ने कहा, ये सभी दावे निराधार हैं और तथ्यों पर आधारित नहीं हैं। मंत्रालय ने कहा कि कोविड टीकाकरण के लिए मोबाइल फोन का होना कोई शर्त नहीं है, पते का प्रमाण भी अनिवार्य नहीं है और टीकाकरण का लाभ उठाने के लिए को-विन पर ऑनलाइन पहले से पंजीकरण भी अनिवार्य नहीं है। मंत्रालय ने कहा कि लोगों की आसानी लिए को-विन मंच अब 12 भाषाओं – हिंदी, मलयालम, तमिल, तेलुगु, कन्नड़, मराठी, गुजराती, ओडिया, बांग्ला, असमिया, गुरुमुखी (पंजाबी) और अंग्रेजी में उपलब्ध है। बयान में कहा गया है कि आधार कार्ड, मतदाता पहचान पत्र, फोटो के साथ राशन कार्ड, अशक्ता पहचान पत्र सहित नौ पहचान पत्रों में से कोई एक टीकाकरण के लिए आवश्यक है लेकिन सरकार ने उन लोगों के लिए टीकाकरण सत्र आयोजित करने की खातिर विशेष प्रावधान किए हैं जिनके पास इनमें से कोई भी नहीं हो। ऐसे प्रावधानों का लाभ उठाते हुए अब तक दो लाख से अधिक ऐसे लाभार्थियों का टीकाकरण किया गया है। मंत्रालय ने कहा कि जिन लोगों के पास इंटरनेट या स्मार्टफोन या मोबाइल फोन भी नहीं है, उनके लिए सभी सरकारी टीकाकरण केंद्रों पर मुफ्त ऑन-साइट पंजीकरण और टीकाकरण उपलब्ध है। उसने कहा कि अब तक लगाए गए टीकों की 80 प्रतिशत खुराक इसी तरह से दी गई हैं। बयान में कहा गया है कि राष्ट्रीय औसत की तुलना में आदिवासी जिलों में कोविड टीकाकरण कवरेज बेहतर रहा है। आंकड़ों से यह भी पता चलता है कि 70 प्रतिशत से अधिक टीकाकरण केंद्र ग्रामीण क्षेत्रों में स्थित हैं।

Previous article23-06-2021 Suratbhumi Epaper
Next articleकांग्रेसी नेता दिग्विजय सिंह तालिबान के प्रवक्ता बन गए: मुख्तार अब्बास नकवी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here