Home देश जमनालाल बजाज इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट स्टडीज में श्रीमती ज्योति द्विवेदी स्मृति स्कॉलरशिप...

जमनालाल बजाज इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट स्टडीज में श्रीमती ज्योति द्विवेदी स्मृति स्कॉलरशिप का तीसरा संस्करण समारोह आयोजित किया गया

183
0

मुंबई: जमनालाल बजाज इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट स्टडीज (JBIMS) द्वारा 20 जून 2021 को प्रतिष्ठित ‘श्रीमती ज्योति द्विवेदी मेमोरियल स्कॉलरशिप अवार्ड्स’ के तीसरे संस्करण का आयोजन किया गया। रु. 1 लाख के दो प्रमुख पुरस्कार और रु. 50000 के चार छात्रवृत्तियां प्रदान की गईं, जिनमें चार तदर्थ पुरस्कार शामिल हैं। द्वितीय वर्ष के एमएमएस छात्रों को उनके प्रथम वर्ष के अंकों और उनके परिवार की वित्तीय स्थिति के आधार पर उनके शैक्षिक खर्चों को पूरा करने के लिए छात्रवृत्ति प्रदान की जाती है। उनकी माता श्रीमती ज्योति द्विवेदी की स्मृति में JBIMS के 1993 बैटच के श्री निमिश द्विवेदी द्वारा व्यक्तिगत रूप से JBIMS को छात्रवृत्ति राशि दी जाती है। इस प्रतिष्ठित बिजनेस स्कूल में स्थापित होने वाली यह पहली छात्रवृत्ति है।
दो मुख्य छात्रवृत्ति के विजेता वैभव तांबे और जतिन सद्रनी हैं। तदर्थ छात्रवृत्ति विजेता हेमंत आहेर, मृणाली बिवलकर, दर्श गणात्रा और शैली कायल हैं।
विजेताओं को निमिश द्वारा लिखित बेस्टसेलर पुस्तक ‘मार्केटिंग क्रॉनिकल्स: ए कम्पेंडियम ऑफ ग्लोबल एंड लोकल मार्केटिंग इनसाइट्स फ्रॉम प्री-स्मार्टफोन एंड पोस्ट-स्मार्टफोन एरास’ भेंट की गई। JBIMS के निदेशक डॉ.कविता लघाटे ने कहा, “संस्थान के पूर्व छात्रों को विभिन्न तरीकों से मदद के लिए आगे आते देख कर बहुत अच्छा लगता है। श्रीमती ज्योति द्विवेदी स्मृति स्कॉलरशिप की शुरुआत करने के लिए मैं श्री निमिश द्विवेदी की आभारी हूं| स्कॉलरशिप अब अपने तीसरे वर्ष में है। ये छात्रवृत्तियां न केवल छात्रों का समर्थन और लाभ करती हैं, बल्कि उन्हें समाज और उनके संगठन को वापस देने की मानसिकता विकसित करने के लिए प्रोत्साहित करती हैं।
निमिश द्विवेदी ने कहा, “अतीत में, हमारे पास ज़ूम ऐप नहीं था, हमारे पास लैपटॉप नहीं था और हमारे पास औ एच प के स्लाइड्स के लिए पैसे नही थे। हमें पाठ्यपुस्तक खरीदने के लिये भी बड़ी चुनौतियों का सामना करना पड़ता था। लेकिन हमारे पास लड़ने और जीतने की भावना थी। मेरी दिवंगत मां ने मुझे सिखाया कि चुनौतियां हमें किसी भी तरह से अवरुद्ध नहीं करनी चाहिए हैं। और मैं आप सभी को सभी चुनौतियों से झूजने की इस भावना को सीखने और अपने संगठन को महान बनाने के लिए प्रोत्साहित करता हूं। “
अपने संबोधन में मुख्य अतिथि श्री इरफान ए. काजी – मुख्य निवेश अधिकारी- स्वामिह इन्वेस्टमेंट फंड – एसबीआई केप वेंचर्स, ने दिवंगत श्रीमती ज्योति द्विवेदी की स्मृति में श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए कहा, मैंने कुछ साल पहले निमिश द्वारा लिखी गई मार्केटिंग बेस्टसेलिंग किताब ‘मार्केटिंग क्रॉनिकल्स’ पढ़ी और सिफारिश करता हु कि मार्केटिंग में करियर बनाने का लक्ष्य रखने वाले हर किसी को इसे पढ़ना चाहिए।”
निमिश द्विवेदी के बारे में
निमिश द्विवेदी को मार्केटिंग और वित्य सेवा ओ में अनुभव है| भारत, जापान, हांगकांग, सिंगापुर, दुबई में ये काम कर चुके है और वर्तमान में वियतनाम में स्थित हैं। निमिश ने मार्केटिंग पर एक किताब लिखी है जिसका शीर्षक है ‘मार्केटिंग क्रॉनिकल्स: ए कम्पेंडियम ऑफ ग्लोबल एंड लोकल मार्केटिंग इनसाइट्स फ्रॉम प्री-स्मार्टफोन एंड पोस्ट-स्मार्टफोन एरास’। यह पुस्तक 2013 में रिलीज होने के बाद से अमेज़न इंडिया पर ‘मार्केटिंग बुक कैटेगरी’ में बेस्टसेलर रही है।
स्कॉलरशिप के बारे में
वार्षिक प्रतिष्ठित श्रीमती ज्योति द्विवेदी स्मृति स्कॉलरशिप जमनालाल बजाज इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट स्टडीज, मुंबई के छात्रों के लिए हैं। यह अनुदान श्री निमिश द्विवेदी द्वारा वर्ष 2019 में उनकी दिवंगत मां की स्मृति में उच्च शिक्षा में उनके दृढ़ विश्वास के लिए स्थापित किया गया था और वह 1960 के दशक में अपने मूल गुजरात से पहली महिला ग्रेजुएट्स में से एक थी। ये अनुदान मेधावी छात्रों को दिया जाता है, जो अपनी पढ़ाई के दौरान वित्तीय कठिनाइयों का सामना करते हैं। दो छात्रों को उनकी ट्यूशन फीस के लिए 100,000 रुपये की छात्रवृत्ति दी जाती है। इसके अलावा, इस संस्करण में, चार छात्रों को प्रत्येक 50,000 रुपये की अतिरिक्त तदर्थ अनुदान दिया गया है. ये स्कॉलरशिप 6 योग्य छात्रों को अपनी क्षिक्षा पूरी करने और अपने सपनो को पूरा करने में शक्षम बनाएगा|

Previous article29-07-2021 Suratbhumi Epaper
Next articleरवींद्र जडेजा ने ट्वीट किया दिलीप जोशी की ऑन-सेट स्टोरी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here