Warning: sprintf(): Too few arguments in /home/suratbhu/public_html/wp-content/themes/newsmatic/inc/breadcrumb-trail/breadcrumbs.php on line 252

Warning: sprintf(): Too few arguments in /home/suratbhu/public_html/wp-content/themes/newsmatic/inc/breadcrumb-trail/breadcrumbs.php on line 252

Warning: sprintf(): Too few arguments in /home/suratbhu/public_html/wp-content/themes/newsmatic/inc/breadcrumb-trail/breadcrumbs.php on line 252

योगी ने छात्र-छात्राओं से कहा, रोजाना हिन्दी-अंग्रेजी का एक-एक अखबार जरूर पढऩा चाहिए

लखनऊ । उत्तरप्रदेश माध्यमिक शिक्षा परिषद की हाईस्कूल तथा इंटरमीडिएट की परीक्षा का परिणाम आने के बाद मुख्यमंत्री योगी बच्चों का हौसला बढ़ा रहे हैं। लगातार मेधावी छात्र-छात्राओं के साथ ही उनके अभिभावक तथा अध्यापकों से भेंट करने के दौरान सीएम योगी आदित्यनाथ उनके साथ संवाद भी कर रहे हैं।
मुख्यमंत्री ने लखनऊ में अपने सरकारी आवास पर हाईस्कूल तथा इंटर में लखनऊ के शीर्ष दस स्थान पर आने वाले छात्र-छात्राओं के साथ संवाद किया। इस दौरान उन्होंने सभी से कहा कि आप लोगों को तेजी से आगे बढ़ने के लिए हिन्दी-अंग्रेजी का एक-एक अखबार जरूर पढऩा चाहिए। इससे आपको एक ही जगह पर देश-दुनिया, राज्य और स्थानीय खबरों की जानकारी मिलेगी। आप की आज की पढ़ी गई खबर कल के लिए जनरल नॉलेज का आधार बनेगी। उन्होंने कहा कि अखबार में संपादकीय पेज तो जरूर पढऩा चाहिए, जिससे कि आपको समग्र ज्ञान मिलेगा।
मुख्यमंत्री ने कहा कि तय स्कूली पाठ्यक्रम के अलावा आपको देश-दुनिया के समसामयिक स्थिति से अपडेट रहना चहिए। इसके लिए अखबार एक अच्छा माध्यम है। दिनचर्या में एक समय अखबार पढ़ने के जरूर रखें। अखबारों के सम्पादकीय पृष्ठ विचारों से परिपूर्ण होते हैं। अलग-अलग विचारों को पढ़कर आप किसी विषय में अपना नजरिया तय कर सकते हैं। यह आगामी प्रतियोगी परीक्षाओं में आपके लिए उपयोगी साबित होगा। हर विद्यार्थी को पुस्तकालय जाने की आदत जरूर डालनी चाहिए। प्रयास करें कि माह में कम से कम कोई एक पुस्तक जो पाठ्यक्रम से अलग हो, जरूर पढ़ें। प्रश्न पत्र विद्यार्थी के मानसिक स्तर को जांचने का एक माध्यम होता है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि आप लोगों को किसी परीक्षा के नाम से घबराना नहीं है, बल्कि उस दिनचर्या का एक सहज हिस्सा मानकर उसके साथ जुड़ जाना है। प्रश्न पत्र विद्यार्थी के मानसिक स्तर को जांचने का एक माध्यम होता है। प्रश्न पत्र बहुत क्लिष्ट हो तो यह अच्छे परीक्षक की निशानी नहीं होती। प्रश्न पत्र सहज हो, सरल हो व हर बच्चे के मानसिक स्तर को जांचने का माध्यम बन सके कि वह बौद्धिक रूप से कितना परिपक्व हुआ है। आप लोग हाईस्कूल या इंटर पास कर चुके हैं, तब पुस्तक को घर में रखने, कूड़ेदान में फेंकने की बजाय या फिर रद्दी मानकर बेचने की बजाय उस विद्यालय की लाइब्रेरी को दान कर दें, किसी गरीब बच्चे को दे दें। अब आप सभी की सकारात्मक ऊर्जा उत्तरप्रदेश को विकास के वैश्विक मानकों के अनुरूप स्थापित करेगी। बच्चों से संवाद करते हुए मुख्यमंत्री जी ने कहा कि कार्य के साथ-साथ आराम भी आवश्यक है। अगर आप नियमित रूप से पढ़ते, नियमित रूप से खेलते, सभी कार्यों को टाइम-टेबल बनाकर करते हैं, तब फिर परीक्षा के समय अनावश्यक तनाव नहीं होगा। संयमित दिनचर्या से आप परीक्षा में अच्छे अंक प्राप्त कर सकते हैं। टाइम टेबल बनाकर दिनचर्या का पालन करेंगे, तो न केवल आपका पाठ्यक्रम समय से पूरा होगा, बल्कि स्वास्थ्य भी बेहतर होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *