Headlines

वर्षीतप विशेषज्ञ पूज्यपाद आचार्य देव श्री जिनसुंदरसूरीश्वरजी महाराज की प्रेरणा से 400 दिवसीय उग्र सामूहिक वर्षीतप तपस्या प्रारंभ हुई

सुरत भूमि, सूरत |श्री अरिहंत पार्क संघ के आँगन में आचार्य देव श्री रविरत्नसूरीश्वरजी म. साहेब , प्रेरक पू. आचार्य देव श्री जिनसुंदरसूरीश्वरजी म. साहेब, पू. आचार्य देव श्री जयेशरत्नसूरीश्वरजी महाराज साहब की पावन निश्रा में 165वां सामूहिक वर्षीतप मंगल प्रारंभ हुआ। फिर पू. आचार्य जिनसुंदरसूरीश्वरजी महाराज ने कहा कि हर धर्म में तप धर्म का विशेष महत्व बताया गया है, जैन धर्म में 8 साल के बच्चे से लेकर 90 साल के बुजुर्ग तक 8-8 दिन तक उपवास करते हैं। यह सारी शक्ति ईश्वर का कृपा स्वरूप है। व्रत करने से न केवल आत्मा शुद्ध होती है बल्कि शरीर के रोग भी नष्ट हो जाते हैं। चाहे थायराइड हो या बी. पी. हो, मधुमेह हो या कोलेस्ट्रॉल, तप धर्म सभी रोगों को नष्ट करने की शक्ति रखता है।

इसी क्रम में वर्षों पहले पुणे में एक सच्ची घटना घटी। एक अंकल को अचानक सांस लेने में तकलीफ होने लगी तो वह डॉक्टर के पास गए और डॉक्टर ने उन्हें कुछ रिपोर्ट निकलवाने की सलाह दी। भाई ने सारी रिपोर्ट ली और डॉक्टर के पास गए। डॉक्टर ने कहा कि आपका दिल बड़ा हो रहा है और रिपोर्ट देख रहे हैं यह स्पष्ट है कि आपकी जीवन प्रत्याशा 2 महीने शेष है। वो अंकल डर गए और तुरंत उस रिपोर्ट को लेकर मुंबई पहुंचे लेकिन हर डॉक्टर ने एक ही बात कही अब भगवान का नाम लो। वह व्यक्ति निराश होकर पुणे वापस आ गए और जब श्री गोडीजी पार्श्वनाथ प्रभु की पूजा करने गए, तो उन्हें सामूहिक वर्षीतप में शामिल होने की इच्छा महसूस हुई और वे 400 दिनों की गहन तपस्या में लग गए। डेढ़ महीने तक उन्हें सामान्य समस्या थी, लेकिन अब सांस लेने की समस्या दूर हो गई है।’ उन्हें पहले से बेहतर महसूस होने लगा तो उन्होंने दोबारा रिपोर्ट निकलवाकर डॉक्टर को दिखाई तो डॉक्टर यह देखकर हैरान रह गए कि उनका दिल सामान्य था और डॉक्टर ने कहा, ”आपने किस डॉक्टर की दवा ली?” तब पहले व्यक्ति ने कहा, “मैंने अपने भगवान द्वारा बताई गई दवा कर दी है।” उसके बाद उस व्यक्ति ने 400 दिनों तक एक दिन छोड़कर एक दिन उपवास करने की अद्भुत प्रथा पूरी की और उसके बाद कई वर्षों तक जीवित रहे। तप धर्म रोग को दूर करता है लेकिन राग को हटाकर वीनराग भी उत्पन्न करता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *